नाम के आगे ‘मैं भी चौकीदार’ लिखनेवाले ‘मैं भी जिम्‍मेदार’ अब क्‍यों नहीं लिखते ?


वाह रे हुकूमत और वाह रे हुक्मरां। जब वोटों की जरुरत होती है तो बिन बुलाए मेहमान की तरह लोगों की घरों के दरवाजे खटखटाते हैं। लोगों से गुहार लगाते हैं। लेकिन सत्ता संभालते ही एक झटके में बदल जाता है सब कुछ।

Advertisements

 

बिहार में एईएस का कहर अभी भी जारी है। गुरुवार को मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल में एक और बच्चे की इलाज के दौरान मौ-त हो गई। इस मौ-त के साथ ही बिहार में एईएस से हो रही मौ-त का आंकड़ा 153 जा पहुंचा है जिसमें से अकेले मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा 119 बच्चों की मौ-त हुई है।

Advertisements

 

एसकेएमसीएच में तीन और केजरीवाल अस्पताल में एक बच्चे ने दम तोड़ा है। बुधवार की शाम से SKMCH में 11 और केजरीवाल में दो नए मरीज भर्ती हुए है। इस बीमारी से अबतक 500 से ज्यादा बच्चे प्रभावित हुए हैं। भागलपुर की बात करें तो AES इंसेफ्लाइटिस से चार बच्चों की मौ-त हुई है जिमसें तीन बच्चों की JLNMCH में मौ-त हुई है जबकि चौथे बच्चे की देर रात अस्पताल पहुंचने पर परिसर में ही मौ-त हो गई।

 

बेतिया में एक, सीवान में एक, भोजपुर में एक, बेगूसराय में एक, भागलपुर के JLNMCH में AES से 4 बच्चों की मौ-त हुई है। वहीं शिवहर में AES से 2 बच्चों की, पटना के PMCH में 1 बच्चे की मोतिहारी में 7 बच्चों की समस्तीपुर में अब तक 5 बच्चों की, हाजीपुर में अबतक 11 बच्चों की मौ-त हुई है।

dailybihar.com, dailybiharlive, dailybihar.com, national news, india news, news in hindi, latest news in hindi, बिहार समाचार, bihar news, bihar news in hindi, bihar news hindi NEWS #ChildrenKilledByEncephalitisinBihar #SKMCH

चमकी बुखार से हो रही मौ-त पर सवाल सुन भड़के सुशील मोदी, कहा- सवाल पूछने वाले जा सकते हैं बाहर : मुजफ्फरपुर में जानलेवा बुखार से बच्चों की जान जा रही है। जिनके बच्चे इस बीमारी के शिकार हो गए जरा उनसे पूछिए कि उनका क्या हाल है। तमाम आलोचनाओं के बाद सीएम नीतीश कुमार मंगलवार को मुजफ्फरपुर गए। इधर सूबे के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को जब मीडिया ने मासूमों को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि इस मामले पर वो कोई जवाब नहीं देना चाहते और जिन्हें इस बारे में सवाल पूछना हो वो बाहर जा सकते हैं।

 

वाह रे हुकूमत और वाह रे हुक्मरां। जब वोटों की जरुरत होती है तो बिन बुलाए मेहमान की तरह लोगों की घरों के दरवाजे खटखटाते हैं। लोगों से गुहार लगाते हैं। लेकिन सत्ता संभालते ही एक झटके में बदल जाता है सब कुछ। मुजफ्फरपुर में बच्चे रोजाना जान गंवा रहे हैं। जो भर्ती हैं वो जिंदगी और मौ-त की जंग लड़ रहे हैं। लेकिन सियासतदां को इससे कोई मतलब नहीं है। सत्ता तो आ गयी लेकिन जिम्मेदारियां गायब हो गईं। बीजेपी नेता सुशील मोदी कहलाते हैं सूबे के उप मुखिया। जब यही सुशील मोदी विपक्ष में होते हैं तो सत्ता पक्ष की नींद हराम करते हैं। सब कुछ बदल देने का दावा करते हैं। लेकिन जैसे ही जोड़ तोड़ कर सत्ता पायी तो पलट गए सारे वादों से, सारी जिम्मेदारियों से।

 

dailybihar.com, dailybiharlive, dailybihar.com, national news, india news, news in hindi, latest news in hindi, बिहार समाचार, bihar news, bihar news in hindi, bihar news hindi NEWS #ChildrenKilledByEncephalitisinBihar #SKMCH

डिप्टी सीएम और बीजेपी नेता सुशील मोदी आए थे बैंकर्स समिति की बैठक में हिस्सा लेने। लेकिन मीडिया ने बच्चों की मौ-त मामले में सवाल पूछे तो लगे मीडिया को ही हरकाने। मन मुताबिक सवाल नहीं पूछे जाने पर पत्रकारों से कहा आप जाइए बाहर। जब पत्रकारों ने विरोध किया तो कहने लगे हम तो आए हैं बैंकर्स समिति की बैठक में शामिल होने इसलिए इससे संबंधित सवाल ही पूछिए। यही राजनीति है नेता जी। जिनका भविष्य खो गया जरा उनसे पूछिए कि हाल क्या है। आप तो सुविधाओँ से घिरे रहते हैं और आगे पीछे डॉक्टरों की टीम होती है भला आप क्या जानें वो दुख जिनके अपने इस दुनिया को अलविदा कह गए।

 

®DailyBihar,


Like it? Share with your friends!

-1

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नाम के आगे ‘मैं भी चौकीदार’ लिखनेवाले ‘मैं भी जिम्‍मेदार’ अब क्‍यों नहीं लिखते ?

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami