भागलपुर का नेता पप्पू साह और जयकिशन शर्मा हत्याकांड में SSP आशीष भारती ने कर दिया काम, चार्जशीट हुई फ़ाइल


पेट्रोल पंप मैनेजर जयकिशन शर्मा हत्याकांड की जांच समाप्त हो गई है। कोतवाली पुलिस पिछले चार साल से केस की जांच कर रही थी। लेकिन शूटरों का पता नहीं चल पाई। मामले में एसएसपी आशीष भारती ने केस के जांच अधिकारी कोतवाली इंस्पेक्टर केएन सिंह को बिल्डर सह पूर्व जदयू नेता पप्पू साह पर पूरक चार्जशीट फाइल करने का निर्देश दिया है।

Advertisements

2016 में इस केस में जांच अधिकारी ने अमजद मियां पर पहला चार्जशीट फाइल किया था। जांच में पप्पू साह का नाम आया था। पप्पू साह के खिलाफ अब तक चार्जशीट फाइल नहीं की गई थी। इस कारण केस पेडिंग चला आ रहा था। बाकी केस में सारा एक्शन पूरा हो चुका है। जयकिशन के बेटे सूरज शर्मा का कोर्ट में 164 के तहत बयान करवाया गया था, जिसके बाद पप्पू साह के नाम का खुलासा हुआ था। पप्पू साह से सूरज शर्मा का जमीन संबंधी विवाद था। केस में पप्पू साह ने हाइकोर्ट से जमानत लिया था। 27 जनवरी 2014 को अपराधियों ने गोशाला रोड में जयकिशन शर्मा की गोली मार कर हत्या कर दी थी।

Advertisements

 

घटनास्थल पर मिले सीसीटीवी फुटेज, संदिग्ध मोबाइल नंबरों की जांच के नाम पर पुलिस ने खानापूर्ति की है। जयकिशन शर्मा के बेटे सूरज का आरोप है कि पुलिस ने प्रामाणिक सबूत फुटेज, संदिग्ध मोबाइल नंबर की जांच सही तरीके से नहीं की।

 

इन सबूतों की जांच नहीं कर पाई पुलिस
प्रेम खटिक का सीडीआर नहीं निकला जांच में संदिग्ध प्रेमा खटिक उर्फ डांसरिया के मोबाइल की पुलिस ने जांच की थी। लेकिन वारदात के चार साल बीत जाने के बाद प्रेमा खटिक के मोबाइल का डिटेल्स निकालना संभव नहीं था। इस कारण उसके मोबाइल का सीडीआर नहीं निकल पाया। साथ ही अन्य अज्ञात का भी पुलिस पता नहीं कर पाई। इस प्रकार केस की जांच पुलिस के स्तर से पूरी हो गई है।

 

मोबाइल पर बात करने वाले को खोज नहीं पाई पुलिस हत्या के समय सीसीटीवी में कैद एक शूटर लगातार मोबाइल पर किसी से बात कर रहा था। इससे आसानी से तकनीकी अनुसंधान के जरिए उस शूटर की तलाश की जा सकती है। लेकिन पुलिस जांच नहीं कर पाई। घटनास्थल से पास संचालित छह मोबाइल नंबरों को पुलिस ने चिह्नित किया था।

 

पांच शूटरों की नहीं हो पाई पहचान वारदात में शामिल पांच शूटरों की गतिविधि घटनास्थल के पास एक घर में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। इसमें एक संदिग्ध का चेहरा पूरी तरह से स्पष्ट है, लेकिन अब तक पुलिस किसी संदिग्ध को खोज नहीं हो पाई है। पुलिस ने संदिग्धों की फोटो निकाल कर राज्यभर के जेलों में पहचान के लिए भेजा था, लेकिन आगे उसका फॉलोअप नहीं किया गया।


Like it? Share with your friends!

0

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर का नेता पप्पू साह और जयकिशन शर्मा हत्याकांड में SSP आशीष भारती ने कर दिया काम, चार्जशीट हुई फ़ाइल

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami