भागलपुर में देर रात हुआ फिर हत्या, बीच शहर में मुँह में घुसाया बंदूक़, और राजीव को मारी 3 गोली


दुकान बंद कर अपने स्टाफ के साथ घर जा रहे तेल, रिफाइन अौर चीनी व्यवसायी राजीव कुमार साह (35 वर्ष) को अपराधियों ने गोलियों से भून डाला। अपराधियों ने उन्हें सिर, जांघ अौर सीने के बीच में तीन गोली मारी। मौके पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया। हत्याराें ने वारदात काे लूट का रूप देने की भी काेशिश की। इसलिए राजीव के हाथ से थैला छीन कर फरार हो गए। थैला में कैश नहीं था। घटना मोजाहिदपुर के काजीचक मोहल्ले में मंगलवार की रात दस बजे की है।
 
दो बाइक पर सवार चार अपराधियों ने इस वारदात को अंजाम दिया। राजीव मिरजानहाट के वारसलीगंज हनुमान मंदिर के निवासी स्व. लक्ष्मण प्रसाद साह के छोटे बेटे थे। उनकी उल्टा पुल के नीचे कलाली गली में खाद्य तेल, रिफाइन व चीनी की दुकान है। गोली लगने के बाद स्टाफ विकास गुप्ता उर्फ विक्की ने फोन कर राजीव के भाई राजेश साह को बुलाया। बाइक से राजीव को मायागंज अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। विकास को भी बदमाशों ने पीटा। पुलिस ने इसे सोझी-समझी हत्या करार दिया है। हत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है। व्यवसायी अपने पीछे पत्नी, एक पुत्र समेत भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं।
 
वह चार भाइयों में सबसे छोटे थे। तीन साल पहले उनकी शादी पूर्णिया के चूनापुर में हुई थी। हत्या की जानकारी मिलते ही सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज, सिटी डीएसपी राजवंश सिंह, मोजाहिदपुर थानेदार प्रमोद साह, कोतवाली थानेदार अमर विश्वास, बरारी थानेदार नवनीश कुमार, बबरगंज थानेदार पवन कुमार सिंह अस्पताल व घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जांच की।
 
मेरे मुंह में पिस्टल घुसा दिया अौर राजीव को 3 गोली मारी
डेढ़ साल से राजीव भैया के दुकान में काम कर रहे हैं। हर दिन दुकान बंद कर रात में उनके साथ घर लौटते हैं। मंगलवार रात को राजीव भैया मेरी बाइक से निकले। दूसरी बाइक पर राजेश भैया भी थे। गुड़हट्टा चौक के पंप पर बाइक में पेट्रोल भरवाए। राजीव भैया घर न जाकर मेरे बीमार पिता को देखने मेरे साथ चल दिए। काजीचक में दो बाइक पर सवार चार अपराधियों ने बाइक रुकवाई अौर मेरे मुंह में पिस्टल घुसा कर राजीव भैया को तीन गोली मार दी।
जैसा की विकास ने दैनिक भास्कर अख़बार को बताया
 

इसलिए स्टाफ पर घूमी शक की सूई


1. भाइयों को घटनास्थल की झूठी सूचना दी : वारदात के बाद सबसे पहले विकास गुप्ता ने मृतक के भाई राजेश साह व अन्य भाइयों को फोन कर कहा कि गुड़हट्टा चौक पर भैया को गोली मार दी गई है। सूचना पर वे गुड़हट्टा चौक पहुंचे, लेकिन वहां घटना की कोई जानकारी नहीं मिली। फिर स्टाफ को फोन मिलाया तो उसने बताया, काजीचक में घटना घटी है।
2. पहले बोला दस गोली चली, फिर कहा तीन : अस्पताल में स्टाफ विकास ने पुलिस दस गोलियां चलने की बात कही। हत्या के बाद अपराधी हवाई फायरिंग करते हुए फरार हुए। लेकिन घटनास्थल पर तीन ही गोली चलने के सबूत मिले। दो गोली जिंदा बरामद हुई। फिर दस गोली कैसे चली?
3. घटनास्थल के पास है स्टाफ का घर : राजीव की जहां हत्या हुई, वहां से 20 कदम की दूरी पर स्टाफ विकास का घर है। मोहल्ले में घटना के बाद भी विकास ने किसी से मदद नहीं मांगी। उसका अपना मोहल्ला था अौर उसकी एक अावाज पर लोग मदद को दौड़ पड़ते। लेकिन उसने एेसा नहीं किया। कई लोगों ने अपराधियों को भागते हुए देखा है।
4. छीना-झपटी तक नहीं की, सीधे गोली मार दी : स्टाफ का कहना है कि अपराधियों ने बाइक रोकते ही राजीव को सड़क पर गिराया और गोली मार दी। पहले थैला लूटने की कोशिश नहीं की। तीन गोली लगने के बाद एक अपराधी थैला लेकर चला गया। थैला में खाता, चाबी अौर कागजात थे। पैसे नहीं थे।
5. घटनास्थल से कुछ दूरी पर मिली एक गोली : चश्मदीद के मुताबिक, एक ही स्थान पर बाइक रोक कर अपराधियों ने राजीव साह को गोली मारी। लेकिन पुलिस जब मौके पर जांच में पहुंची तो घटनास्थल से कुछ दूर एक जिंदा गोली मिली। यानी राजीव को दौड़ा कर गोली मारी गई। लेकिन स्टाफ यह नहीं बता रहा है।

!--MGID--!

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर में देर रात हुआ फिर हत्या, बीच शहर में मुँह में घुसाया बंदूक़, और राजीव को मारी 3 गोली

log in

reset password

Back to
log in