भागलपुर ने रच दिया इतिहास: अपने शहर का बेटा बना Microsoft का नया MD, गुल्ली डंडा खेला करते थे शहर में राजीव


माइक्रोसॉफ्ट ने राजीव कुमार को माइक्रोसॉफ्ट इंडिया (आरएंडडी) का एमडी (प्रबंध निदेशक) नियुक्त किया है। कंपनी ने सोमवार को यह घोषणा की।

 

अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट इंडिया ने पांच दिन पहले 10 सितंबर को उन्हें अपना नया एमडी नियुक्त किया है। माइक्रोसॉफ्ट के साथ अपने 27 साल के सफर में उन्होंने स्मार्टफोन पर एमएस वर्ड, एक्सल, पावर प्वॉइंट्स समेत पूरा ऑफिस लाकर यूजर को जहां बड़ी राहत दी, वहीं भारत में क्लाउड को फोकस कर नया डेटा सेंटर बनाने में भी बड़ी भूमिका अदा की। सॉफ्टवेयर की दुनिया में खुद को स्थापित कर चुके राजीव मूलत: भागलपुर के रहने वाले हैं। घरवालों के बीच राजू के नाम से जाने जाने वाले राजीव बड़ी जिम्मेदारी लेने के बाद माता-पिता से आशीष लेने घर आए तो दैनिक भास्कर से खास बातचीत की।

Bhagalpur Rajeev new Microsoft MD
Bhagalpur Rajeev new Microsoft MD

हॉस्टल में कमरा नहीं मिला तो रेलवे रिटायरिंग रूम में बिताईं रातें


बौंसी के जबरा गांव स्थित ननिहाल में 20 दिसंबर 1968 में राजीव का जन्म हुआ। पिता झारखंड के साहेबगंज स्थित सेंट जेवियर्स स्कूल में शिक्षक थे। नानी के यहां से साहेबगंज जब भी वे जाते तो भागलपुर ही रास्ता था। भागलपुर से साहेबगंज की गलियों में गिल्ली-डंडा खेलते हुए वे बड़े हुए। अच्छी तालीम की इच्छा थी तो पिता ने अपने ही स्कूल में दाखिला करवा दिया। 10वीं तक की पढ़ाई की तो स्कूल प्रबंधन उनसे खासा प्रभावित हुआ। स्कूल प्रबंधन ने उन्हें आगे की तालीम के लिए कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज में पढ़ने भेज दिया। लेकिन यहां जब हॉस्टल में कमरे नहीं मिले तो उन्होंने कई रातें रेलवे स्टेशन के रिटायरिंग रूम में भी बिताई।

 

वर्तमान में राजीव माइक्रोसॉफ्ट के एक्सपीरिएंस एंड डिवाइसेज (ई प्लस डी) समूह के कॉर्पोरेट उपाध्यक्ष है। उन्होंने यह जिम्मेदारी अनिल भंसाली से ग्रहण की है। भंसाली कंपनी के क्लाउड और एंटरप्राइजेज कारोबार के कार्पोरेट उपाध्यक्ष बने रहेंगे और वे अमेरिका के रेडमंड कार्यालय में स्थानांतरित होंगे।

 

बयान में कहा गया कि एमडी के रूप में कुमार से अपेक्षा की जाती है कि वे इंजीनियरिंग डिवीजन की क्षमता का निर्माण करेंगे और कंपनी में समावेश, नवाचार और सहयोग की संस्कृति को सुदृढ़ करेंगे।

 

माइक्रोसॉफ्ट में उनके हालिया प्रमुख योगदानों में – कैजाला – जो एक उद्यम उत्पादकता चैट एप है तथा और भारत में कैंपस हायरिंग प्रोग्राम बूटस्ट्रैपिंग शामिल है।

कुमार ने आईआईटी रुड़की से कंप्यूटर साइंस में बैचलर की तथा यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास, ऑस्टिन से कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स की डिग्री हासिल की है।


Like it? Share with your friends!

1

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर ने रच दिया इतिहास: अपने शहर का बेटा बना Microsoft का नया MD, गुल्ली डंडा खेला करते थे शहर में राजीव

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in