रेलवे द्वारा एक नई घोषणा की गई है जो यात्रियों के लिए एक गुड न्यूज़ हैं. इससे पहले जहां यह नियम था कि जिन लोगों की ट्रेन में बर्थ कन्फर्म हैं वहीं बेडरोल की सुविधा का लाभ ले सकते हैं. पर अब रेलवे ने कहा है कि जिन लोगों की टिकट RAC है अब से उन्हें भी यात्रा के दौरान बेडरोल दिया जाएगा. हालांकि ये सुविधा फिलहाल AC कोच वालों को दिया जाएगा. मालूम को की RAC के तहत यात्रियों की सीट तो मिलती है पर वो उपसर सिर्फ बैठकर जा सकते है सोकर नहीं.

कहा जा रहा कि यह सुविधा तो रेलवे में साल 2009 से लागु लेकिन इसका ठीक से पालन नहीं हो रहा है. रेलवे बोर्ड ने एक बार फिर सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों को निर्देश जारी कर कहा है कि वह एसी कोच में आरएसी टिकट पर सफर करने वाले सभी यात्रियों को चादर और कंबल दिलवाना सुनिश्चित कराएं.

रेलवे बोर्ड ने यह नियम इस बात को ध्यान में रखकर बनाया था कि RAC टिकट पर ट्रेवल करने वाला पेसेंजर पूरा किराया देता है. इसमें बेडरोल का किराया भी शामिल होता है. इसलिए उन्हें भी बेडरोल मिलना चाहिए. रेलवे बोर्ड ने कहा है कि अगर अटेंडेंट बेडरोल नहीं देता है तो टीटीई बेडरोड उपलब्ध कराएगा. रेलवे ने कुछ समय पहले ही स्लीपर क्लास के कोच में आरएसी बर्थ की संख्या 10 से 14, थर्ड एसी में 4 से 8 और सेकेंड एसी में 4 से 6 कर दी थी.

बता दें कि रेलवे में यात्रा को आसान करने के लिए अब मोबाइल से एसएमएस के जरिए टिकट रद्द करवाने की सुविधा भी शुरूआत की गई है. जबकि अब यदि कोई भी यात्री अपनी टिकट को IRCTC की वेबसाइट पर जानकर कैंसिल करता है तो भी वो अपना रिफंड रिजर्वेशन काउंटर से प्राप्त कर सकता है.

Digital Desk